अनुवाद

रविवार, 13 जुलाई 2014

ऐसा भारत में ही हो सकता है: मराठी बोलने पर दण्ड

९ जुलाई २०१४ को पुणे में एक अंग्रेजी माध्‍यम विद्यालय में  मराठी बोलने पर छात्रों को दी गई अमानवीय शारीरिक और मानसिक यंत्रणा संबंधी निंदनीय घटना के समाचार-पत्रों में छपी खबरों प्रतियाँ अवलोकनार्थ संलग्‍न हैं।


इस तरह की छोटी-मोटी घटनाओं को हमारे समाचार-चैनलों/मीडिया में जगह नहीं मिलती और स्‍थानीय समाचार-पत्रों का दायरा सीमित होता है, इस कारण हो सकता है बहुतों को इसकी ख़बर न हो, पर देश के विभिन्न भागों में ऐसी शर्मनाक घटनाएँ घट रही हैं । 

मामला बढ़ता देख विद्यालय प्रशासन द्वारा इस पाशविक पिटाई के संदर्भ  में अन्‍य कारण बता कर और छात्रों को ही बिगड़ा हुआ व अनुशासनहीन बता कर, मामले को दूसरी दिशा में मोड़ने और स्‍वयं को ठीक साबित करने का भी प्रयास किया जा रहा है, जिसका उल्‍लेख व संकेत समाचार-पत्रों में भी है। 
आइए, हम सभी (शिक्षाविद्, बुद्धिजीवी, मानवाधिकार-समर्थक और भारतीय-भाषा-प्रेमी) मिलजुल
कर  निंदा-निंदा का खेल   खेलें  और अगली किसी बड़ी घटना की प्रतीक्षा करें। (क्‍योंकि पिछले 60 वर्षों से हम यही तो करते आए हैं) 
सौजन्य: लोचन मखीजा, पुणे, महाराष्‍ट्र
समाचार-पत्रों की कतरनें :



1 टिप्पणी:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आपसे विनम्र प्रार्थना है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद इस विषय पर अपने विचार लिखिए, धन्यवाद !