अनुवाद

बुधवार, 6 मार्च 2013

सूचना का अधिकार अधिनियम २००५ के अंतर्गत प्रथम अपील


दिनांक: 20 नवम्बर २०१२  



प्रति,
प्रथम अपीलीय प्राधिकारी ,
भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त के कार्यालय
नई दिल्ली – ११० ००४.


विषय: सूचना का अधिकार अधिनियम २००५ के अंतर्गत प्रथम अपील  


महोदय,

उपर्युक्त विषयान्तर्गत निवेदन है कि मैंने भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त के कार्यालय के जन सूचना अधिकाररियों  से दो अलग-२ आवेदनों के माध्यम से कुछ सूचनाएं मांगी थी. मैंने अपने दोनों आरटीआई आवेदन निर्धारित शुल्क १० रूपये (भारतीय पोस्टल आर्डर) के साथ पंजीकृत डाक द्वारा प्रेषित किये थे. जिनके उत्तर क्रमशः  अक्टूबर २०१२ एवं १४ नवंबर २०१२ प्राप्त हुए हैं.

१.      उक्त दोनों केन्द्रीय जन सूचना अधिकारियों द्वारा दी गई सूचनाएँ आधी अधूरी तथा भ्रामक हैं, जिनका विवरण इस प्रकार है:
v  मेरे आवेदन की मद संख्या  के सम्बन्ध में एक अधिकारी ने बताया है कि हिन्दी वेबसाइट उपलब्ध है जबकि दूसरे उत्तर में लिखा है कि वे हिन्दी वेबसाइट के नाम पर ‘गूगल अनुवादक’ का इस्तेमाल कर रहे हैं. हिन्दी वेबसाइट उपलब्ध करवाने के सम्बन्ध में उन्होंने असमर्थता प्रकट की है. मेरे प्रश्न का जवाब असंतोषजनक एवं शर्मनाक है कि भारत सरकार का एक महत्वपूर्ण निकाय हिन्दी के नाम पर सिर्फ औपचारिकता पूरी कर रहा है.
v  मद संख्या .... के उत्तर में महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त के कार्यालय में हिन्दी में कामकाज किये जाने  के प्रतिशत भी काफी भ्रामक हैं क्योंकि मेरे आवेदन का उत्तर भी अंग्रेजी में भेजा गया. जिस कार्यालय से हिन्दी के आवेदनों का उत्तर भी हिन्दी में ना दिया जाता हो तथा लिफ़ाफ़े/ मोहरें/कार्यालय के लैटरहैड केवल अंग्रेजी में छपे जा रहे हों, आधिकारिक वेबसाइट पर एक भी प्रेस विज्ञप्ति/परिपत्र/अधिसूचना  हिन्दी में उपलब्ध नहीं हो उस कार्यालय के हिन्दी में कामकाज के आंकड़े संदेहजनक हैं.
v  मद संख्या .... के उत्तर में हिन्दी भारत की राजभाषा है और इसलिए हिन्दी में वेबसाइट उपलब्ध करवाना तथा हिन्दी में कामकाज सुनिश्चित करना महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त के कार्यालय का दायित्व है अतः संसाधनों की कमी के नाम पर केन्द्र सरकार का यह निकाय अपनी अनिवार्य ज़िम्मेदारी से नहीं बच सकता.
२.      अतः मैं यह प्रथम अपील आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ.
३.      आपसे निवेदन है कि वांछित सूचनाएँ शीघ्र उपलब्ध करवाएँ.


अपीलार्थी :

प्रवीण कुमार जैन

संलग्न:
१.  आरटीआई आवेदनों की प्रतियां  
२.  प्राप्त सूचना की प्रतियां 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपसे विनम्र प्रार्थना है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद इस विषय पर अपने विचार लिखिए, धन्यवाद !