अनुवाद

बुधवार, 6 मार्च 2013

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय:सूचना का अधिकार अधिनियम २००५ के अधीन सूचना प्राप्त करने हेतु आवेदन


प्रति,
केन्द्रीय जन सूचन अधिकारी
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
कक्ष क्र. ५४४, ए-विंग, शास्त्री भवन, नई दिल्ली – ११०००१
विषय: सूचना का अधिकार अधिनियम २००५ के अधीन सूचना प्राप्त करने हेतु आवेदन
महोदय/महोदया,
कृपया निम्नलिखित सूचनाएँ भारत की राजभाषा ‘हिन्दी’ में प्रदान करने की कृपा करें:
भारत में इंटरनेट का आगमन, फिल्मों/टीवी पर बढ़ती अश्लीलता, देह-प्रदर्शन, विदेश से आयातित अश्लील सीडी और गंदे साहित्य का खुलेआम विक्रय होने से भारतीय संस्कृति और संस्कारों का सफाया किया जा रहा है, महिलाओं और बच्चों के विरुद्ध यौन-अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं. जगह-जगह खुलती शराब की दुकानों ने भी आग में घी का काम किया है. दिल्ली में रविवार. १६ दिसंबर २०१२ की  रात चलती बस में हुए एक मासूम युवती के सामूहिक बलात्कार ने सम्पूर्ण भारतवर्ष को झकझोर दिया है. हर कोई गुस्से में है और बलात्कारियों को कड़े दण्ड की माँग कर रहा है. बलात्कारियों को कड़ी-से कड़ी सजा तो मिलनी ही चाहिए पर साथ है बलात्कार जैसे अपराधों को बढ़ाने वाले कारणों पर भी कठोर अंकुश लगाना सरकार का काम है.
प्रश्न  १: कृपया बताएँ कि सरकार द्वारा निम्नलिखित के लिए क्या नियम, कानून और दिशा-निर्देश बनाए गए हैं:
(क). टीवी कार्यक्रमों/ धारावाहिकों/फिल्मों में बलात्कार के दृश्य, सेक्स एवं अश्लील सामग्री तथा अश्लील विज्ञापन, मध्यरात्रि में अर्धनग्न स्त्रियों द्वारा टीवी पर टीवी शॉपिंग विज्ञापन
(ख). अख़बारों और समाचार चैनलों की वेबसाइटों पर माडलों, हीरोइनों के अश्लील चित्र तथा अश्लील ख़बरों का प्रकाशन
(ग).   कतिपय भारतीय माडलों द्वारा अपनी अश्लील वेबसाइटों का खुला प्रचार और प्रदर्शन
(घ).   वयस्क फिल्मों की सीडी/कैसेट आदि की खुले बाजार, स्टेशनों, बस अड्डों आदि पर बिक्री
(ङ).  पॉर्न फ़िल्म में काम करने वाले कलाकारों द्वारा भारत की फिल्मों और धारावाहिकों में काम करना, ये सभी कलाकार भारत में पॉर्न को बढ़ावा दे रहे हैं.
(च).  पोर्न वेबसाइट, पॉर्न फिल्म के भारत में प्रदर्शन की अनुमति
(छ).  अख़बारों में अश्लील चित्रों एवं अश्लील सामग्री के प्रकाशन के नियम
(ज).  फैशन, जीवनशैली एवं पर्यटन आदि से संबंधित टीवी चैनलों पर अश्लील/सेक्स  सामग्री का प्रदर्शन
(झ).  फैशन मॉडलों की अश्लील फोटोग्राफी एवं फोटोग्राफी के वीडियो का यूट्यूब एवं अन्य ऑनलाइन वीडियो वेबसाइटों पर प्रसारण
(ञ).  पॉर्न सामग्री वाली अश्लील पुस्तकों और पत्रिकाओं का प्रकाशन एवं बिक्री
(ट).    फैशन, जीवनशैली, पर्यटन एवं फ़िल्मी दुनिया से जुड़ी पत्रिकाओं में अश्लील/सेक्स सामग्री (अभिनेत्रियों/मॉडलों के अश्लील चित्र और पाठ्य सामग्री)
(ठ).   फिल्मों और धारावाहिकों में सेक्स का चित्रण, शराब एवं शराबखोरी का प्रदर्शन एवं प्रचार  
दिनांक:                                                                          आवेदक:
स्थान:                                                                             पता:
आवेदन शुल्क के रूप में १० रुपये का ‘लेखाधिकारी, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय’ के नाम देय डीडी/ भारतीय पोस्टल ऑर्डर संलग्न है. 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपसे विनम्र प्रार्थना है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद इस विषय पर अपने विचार लिखिए, धन्यवाद !